skip to Main Content

18 अप्रैल को मनाया गया “विश्व विरासत दिवस” (World Heritage Day)

18th April observed as World Heritage Day worldwide in hindi..

अंतर्राष्ट्रीय स्मारक और स्थल परिषद (International Council on Monuments and Sites-  ICOMOS) द्वारा 18 अप्रैल को विश्व विरासत दिवस (World Heritage Day) के रूप में मनाया गया। इस दिवस का उद्देश्य वैश्विक स्तर पर सांस्कृतिक विरासत की विविधता की महत्ता के बारे में जागरूकता पैदा करना तथा भविष्य के लिये संरक्षित करना है।

 

 

World Heritage Day  का  विषय (Theme)

वर्ष 2020 के लिये विश्व विरासत दिवस का विषय “साझा संस्कृति, साझा विरासत, साझा ज़िम्मेदारी” (Shared Cultures, Shared Heritage, Shared Responsibility) रहा। जबकि वर्ष 2019 के लिए इस दिवस का विषय – “ग्रामीण परिदृश्य” (Rural Landscapes) था।

 

COVID-19 महामारी की गंभीरता और व्यापकता को देखते हुए इस वर्ष इस दिवस को इंटरनेट के माध्यम से मनाने का निर्णय लिया गया जिसमें आभासी सम्मेलन, ऑनलाइन व्याख्यान, प्रेस विज्ञप्ति एवं सोशल मीडिया अभियान जैसी कई गतिविधियाँ शामिल की गईं।

 

Also Read : What is COVID-19

 

Also Read : COVID-19: Bollywood Singer Kanika Kapoor tested Coronavirus positive

 

ग़ौरतलब है कि विश्व भर में विभिन्न कार्यक्रमों के माध्यम से सांस्कृतिक गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिये अंतर्राष्ट्रीय स्मारक और स्थल परिषद (ICOMOS), जिसकी स्थापना ‘वेनिस चार्टर’ (Venice Charter) में उल्लिखित सिद्धांतों के आधार पर की गई थी, के द्वारा प्रतिवर्ष 18 अप्रैल को विश्व विरासत दिवस के रूप में मनाया जाता है। परिषद (ICOMOS) द्वारा वर्ष 1982 में इस दिवस को मानाने का प्रस्ताव किया गया था जिसे यूनेस्को (UNESCO) की 1983 में हुई 22वीं आम सभा द्वारा अनुमोदित किया गया।

इसे भी पढ़ें : 10 अप्रैल हिंदी समसामयिक न्यूज़ कैप्सूल (Hindi Current News Capsule)

 

इसे भी पढ़ें : अप्रैल 2020 की हिंदी मासिक करेंट अफेयर्स

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top